Omicron | Symptoms of Omicron | क्यों खतरनाक माना जा रहा है कोरोना का नया वैर‍िएंट

कोरोना के नए वैर‍ियंट Omicron / ओमीक्रोन ने दस्‍तक दे दी है, ऐसे में आपको इससे कैसे सावधान रहना चाह‍िए जानें इस लेख से। कोव‍िड महामारी फैलने के लगभग दो साल बाद भी दुन‍ियाभर में कोव‍िड के नए-नए वैर‍िएंट्स देखने को मिल रहे हैं, अब नए वैर‍िएंट ओमीक्रोन के कारण दुन‍ियाभर में इसकी चर्चा है। डब्‍ल्‍यूएचओ ने इस वैर‍िएंट को ‘बेहद संक्रामक चिंताजनक स्वरूप’ करार द‍िया है। दक्ष‍िण अफ्रीका में अब तक इस नए वैर‍िएंट के 10 द‍िन में 25 से ज्‍यादा मामले सामने आए हैं, इसी देश से ओमीक्रोन / Omicron की शुरूआत हुई और और अब तक 7 से ज्‍यादा देशों में ये वैर‍िएंट पाया गया है। भारत अब तक इस नए वैर‍िएंट से सुरक्ष‍ित है।

मुंबई के फोर्टिस हॉस्पिटल के क्रिटिकल केयर के डायरेक्टर और स्टेट कोविड-19 टास्क फोर्स के सदस्य डॉ राहुल पंडित के मुताब‍िक ऐसा माना जाता है क‍ि नए वायरस में कई म्‍युटेशन है, इस पर लगातार शोध जारी है। आगे आने वाले समय में हमें इस वैर‍िएंट के बारे में और बेहतर जानकारी म‍िल सकेगी। इस वैर‍िएंट के लक्षण भी कोव‍िड के लक्षण जैसे ही बताए जा रहे हैं। ओमीक्रोन / Omicron का पता लगने के साथ दुन‍िया के कई देशों ने दक्ष‍िण अफ्रीकी देशों से आ रहे यात्र‍ियों पर प्रत‍िबंध लगा द‍िए हैं। 

आगे पढ़िए…

क्‍या है कोव‍िड का नया वैरिएंट ओमीक्रोन? (Covid new varient Omicron)

व‍िश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने कोव‍िड के नए वैरिएंट को ओमीक्रोन / Omicron का नाम द‍िया है, इसकी पहचान बी.1.1.529 के तौर पर की गई है। ये वैर‍िएंट दक्ष‍िण अफ्रीका में पाया गया है। ओमीक्रोन दक्ष‍िण अफ्रीका के अलावा हॉन्‍गकॉन्‍ग, बोत्‍सवाना, बेल्ज‍ियम, जर्मनी, चेक र‍िपब्‍ल‍िक, ब्र‍िटेन में भी पाया गया है। ओमीक्रोन से ग्रस‍ित मरीजों में जो लक्षण नजर आ रहे हैं वो डेल्‍टा वैर‍िएंट से अलग है। वहीं जानकारों के मुताब‍िक नए वैर‍िएंट से पीड़‍ित ज्‍यादातर मरीजों की उम्र 40 साल से कम थी और ज‍िनमें से कम लोगों को ही वैक्‍सीन लगी थी।

भारत में ओमीक्रोन का केस अब तक नहीं है 

हमारे ल‍िए अच्‍छी खबर ये हैं क‍ि अभी तक भारत में कोव‍िड के नए वैर‍िएंट ओमीक्रोन / Omicron का एक भी केस नहीं पाया गया है पर केंद्र ने सभी राज्‍यों को सावधानी बरतने के ल‍िए कहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी वैर‍िएंट के खतरे को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर समीक्षा करने के निर्देश दिए हैं। डॉक्‍टरों के मुताब‍िक फ‍िलहाल ये कहना मुश्‍क‍िल है क‍ि ये नया वैर‍िएंट कब तक रहेगा पर सावधानी नहीं बरती गई तो इसके मरीज हमारे देश में भी नजर आ सकते हैं। डॉक्‍टरों के मुताबिक हमने भारत में भी इस वैर‍िएंट के ख‍िलाफ स्‍क्रीन‍िंग शुरू कर दी है, हमें कोव‍िड के सभी न‍ियमों का पालन करना है ज‍िसमें मास्‍क लगाना, सोशल ड‍िस्‍टेंस‍िंग बनाए रखना, यात्रा के बाद और यात्रा से पहले टेस्‍ट करवाना आद‍ि बचाव के उपाय शाम‍िल हैं।

क्‍यों खतरनाक है ओमीक्रोन? (Risks involved with Omicron)

डब्‍ल्‍यूएचओ ने अपने बयान में कहा है क‍ि हमें इस नए वैर‍िएंट को हल्‍के में नहीं लेना चाहि‍ए, ये बहुत तेजी से फैल रहा है, इसका पहला संक्रमण हमें 9 नवंबर को जमा किए गए नमूने से मिला था। ऐसा माना जाता है क‍ि ये नया वैर‍िएंट डेल्‍टा वैर‍िएंट के मुकाबले तेजी से फैल सकता है और वैक्‍सीन लेने के बाद भी मरीज पर बुरा असर डाल सकता है। व‍िश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने ये भी कहा है क‍ि इसके वास्‍तव‍िक खतरों के बारे में अभी कहा नहीं जा सकता पर मौजूदा सबूतों के आधार पर ये कहा जा सकता है क‍ि ये अन्‍य वैर‍िएंट के मुकाबले ज्‍यादा विनाशकारी हो सकता है।

क्या नए वैरिएंट के लक्षण अलग हैं? (Symptoms of omicron)

साउथ अफ्रीका के डॉक्‍ट्स के मुताब‍िक नए वैर‍िएंट के मरीज ज‍ब उनके पास आए तो उनमें थकान, स‍िर दर्द, बॉडी पेन जैसे लक्षण थे, एन मरीजों में स्‍मेल या मुंह का स्‍वाद चले जाने लक्षण हमें नहीं म‍िले वहीं कुछ केस ऐसे थे ज‍िनमें मरीज को भर्ती करने की जरूरत भी नहीं पड़ी पर ये एक च‍िंताजनक स्‍थित‍ि है। क्‍योंक‍ि लक्षण जब पकड़ में न आए तो ज्‍यादा मरीज इससे संक्रमित हो सकते हैं और उन्‍हें इस बात की खबर भी नहीं होगी।

दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रीय संचारी रोग संस्थान के मुताब‍िक इस वैर‍िएंट के लक्षण असामान्‍य नहीं हैं। कई केस ऐसे हैं ज‍िनमें कोई लक्षण नहीं है। अभी ये कहा नहीं जा सकता है क‍ि आरटी-पीसीआर टेस्‍ट से हम इस वैर‍िएंट का पता लगा सकते हैं या नहीं, इस पर शोध जारी है, दक्षिण अफ्रीका की लैब मे 100 से अध‍िक नमूनों पर परीक्षण क‍िया गया है ज‍िसके पूरे पर‍िणाम अभी जारी नहीं क‍िए गए हैं।

क्‍या टीकाकरण से होगा बचाव? 

अगर आपने कोव‍िड वैक्‍सीन ले ली है तो आपके शरीर में एंटीबॉडीज़ मौजूद है, हो सकता है आगे चलकर आपको बूस्‍टर शॉट लेना पड़े पर उसकी पुष्‍ट‍ि अभी डब्‍ल्‍यूएचओ की ओर से नहीं क‍ी गई है। और न ही इस बारे में कोई जानकारी है क‍ि ओमीक्रोन / Omicron के ख‍िलाफ कौनसा टीका असरदार होगा इसल‍िए बचाव ही इससे बचने का एकमात्र उपाय है। हालांक‍ि ऑक्‍सफोर्ड टीका समूह की ओर से ये उम्‍मीद जताई गई है की मौजूदा टीके, नए वैरिएंट को रोकने में हमारी मदद कर सकते हैं।

वायरस से बचने के ल‍िए यात्रा को टालें 

कोव‍िड की दूसरी लहर के बाद लोगों से कोव‍िड का डर धीरे-धीरे गायब होता नजर आ रहा है पर आपको बता दें क‍ि अब भी नए-नए वैरिएंट से स्‍थ‍ित‍ि को च‍िंताजनक बनाया हुआ है। वैसे तो यात्रा पर रोक लगाना संक्रमण से बचने का उपाय नहीं हो सकता पर अपने पर‍िवार की सुरक्षा और स्‍वास्‍थ्‍य के ल‍िए आप क‍िसी भी तरह की यात्रा को कुछ समय के लिए टाल दें और बहुत जरूरी होने पर ही घर से बाहर जाएं।

ओमीक्रोन से कैसे बचें? (Precautions to prevent Omicron)

  • वायरस के क‍िसी भी वैरिएंट से बचने का सबसे सरल उपाय है साफ-सफाई रखना और हर वक्‍त मास्‍क लगाकर रखना।
  • आप चाहें ऑफ‍िस में हों या पब्‍ल‍िक प्‍लेस पर आपको हर वक्‍त मास्‍क को लगाकर रखना है और डबल लेयर मास्‍क‍िंग को अपनाएं। 
  • अगर आपने अब तक टीकाकरण नहीं करवाया है तो अपने और दूसरों के स्‍वास्‍थ्‍य के मद्देनजर आप वैक्‍सीन लगवाएं और दोनों डोज़ लें। 
  • ऐसे क‍िसी आयोजन का ह‍िस्‍सा न बनें जहां भीड़ हो या कोव‍िड न‍ियमों का पालन न क‍िया जा रहा हो।

क‍िन लोगों को बरतनी होगी व‍िशेष सावधानी? 

अगर आपके घर में बुजुर्ग हैं तो उनका खास खयाल रखें क्‍योंक‍ि ऐसे लोगों की रोग प्रत‍िरोधक क्षमता कम होती है और वायरस इन्‍हें आसानी से अपनी चपेट में ले लेता है। वहीं नवजात श‍िशु और गर्भवती मह‍िलाएं भी वायरस की चपेट में आ सकती हैं इसल‍िए इन लोगों के टीकाकारण पर जोर दें और इन्‍हें साफ-सफाई के बीच रखें। कोव‍िड के नए-नए वैर‍िएंट के बीच आप अपनी सावधानी का बीड़ा उठाएं, क‍िसी भी तरह के नए लक्षण नजर आने पर स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र पर जाकर चेकअप जरूर करवाएं।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

instagram volgers kopen volgers kopen buy windows 10 pro buy windows 11 pro